Tag Archives: नया साल

नया साल

दिन फिर वही होंगे और वही होगी रात, कुछ कच्चे बे-लम्स, कुछ गहरे जज़्बात। हैरान कर जाएगा ज़माना किसी रोज़, चैन ले जाएगा करके किसदिन मधहोश। फिर दिल टूटेंगे ,फिर होगा बेहद मलाल, पर फिर भी मुबारक हो तुमको नया … पढना जारी रखे

कविता में प्रकाशित किया गया | Tagged | टिप्पणी करे