Monthly Archives: मई 2017

गुज़रा साल और तुम

तेरे आज और कल के दरमियान,
एक सदी गुज़र गयी एक साल मे. पढना जारी रखे

कविता में प्रकाशित किया गया | 1 टिप्पणी