आप कतार मे है

1431766558_c4a9379064ट्रेन स्टेशन पर देखो तो खड़ी कतारे ऐसी लगती है

ट्रैफिक लाइट पर ठहरी जेब्रा क्रॉसिंग की धारिया हो

पाक सी ,सफ़ेद सी ,शांत सी ,नम सेज सी ….

नौसिखिये गार्ड ,कान खुजाते ,अनमने ढंग से हुजूम को रोके

लक्ष्मण रेखा रोके रखते है ,पीली पट्टी के पीछे ….

पर ज्यूँ ही ट्रेन की हूंकार  गूँजती है ड्रोम्स मे

धारिया बदल जाती है मक्खियों के झुंड में

शहद का पहला स्वाद चखने को आतुर जैसे

जीत की ललक लिए मदमाते झुन्झुनाते जूनून में …

देखो इन अमानुसो को ,बंद दरवाज़े को धक्का दिए,

आगे बड़े जाते है, दूजे के काँधे पे सवार हुए जाते है

तत्व राख मे समा जाए ऐसे बस जाते है कोच मे

नियति  का खेल  यही फिर से चलता है

इक मेला निकलता है तो दूसरा रेला उमड़ता है ….

 

और वो बूढा जो कतार में आगे खडा था पहले से

अब फिर कतार में पहले नंबर पर ही खडा है ….

अगली गाडी की राह देखता अपनी किस्मत की बाट देखता

हुजूम में  अहम और अस्तित्व समेट रखने की कोशिश करते ………………..

Advertisements

About Gayatri

A storyteller. Poetry, fiction, Travel tales, CSR, Parenting, Images. Writing the bestseller called Life. Communication strategist. Freelance writer. Candid photographer @ImaGeees. I travel, thus I write. I write, therefore I am. Please mail at imageees@gmail.com for writing/photography assignments.
यह प्रविष्टि कविता में पोस्ट और , , टैग की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

8 Responses to आप कतार मे है

  1. कुछ हिन्दी अग्रीगेटर्स जैसे “ब्लॉगवाणी” में अपने ब्लॉग को स्थापित करें । आपकी सोच और अभिव्यक्ति मौलिक है, इसे और पाठकों तक पहुँचाऐं ।

    Like

  2. amit k sagar कहते हैं:

    चिटठा जगत में आपका स्वागत है.

    उम्मीद करते हैं कि आप अपनी कलम से अपना नाम ही नहीं हमारे समाज और देश के कई अनगिनत पहलुओं को भी कमा ले जाएंगे. शुक्रिया. जारी रहिये.

    देश भक्ति के भावः को दीजिये शब्द “एक चिट्ठी देश के नाम लिखकर” कहिये देश को अपनी बात- विजिट करें- [उल्टा तीर] http://ultateer.blogspot.com

    Like

  3. Nimisha कहते हैं:

    aage nikal jaane ki aapaa-dhaapi mein kiske paas samay hai ki ek budhe per dhyan ne. Insaniyat kahin khoti jaa rahi hai…

    bahut acchha prayas hai Gee iss baat ko darshaane ka.

    Like

  4. smita कहते हैं:

    नियति का खेल यही फिर से चलता है
    इक मेला निकलता है तो दूसरा रेला उमड़ता है ….

    Very nice. 🙂

    Like

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s