यू टर्न

हर क़दम संभल के रखो
हर हरफ़ वज़न कर कहो

लाइफ में कोई यू- टर्न नही है …..

हर रिश्ता खुल के जियो
शक को जगह कोई न दो
जो कहना है आज कहो
कल की कोई शाख नही है ……..

नाराज़ हो कर तुम
दायरे समेट तो लो
पर दिल में दरिया रखो
हमदम खुदा तो नही है ……
 
तोड़ने से पहले कोई दिल
आयने में झाँक तो लो
जो रहता है उस पार वो
इतना भी पाक नही है …

चटक जाए रिश्ता कोई
फिर से जुड़ सकता है
झिर्रिया फिर भी दिखती है
गांठो में साख नही है ……

हर कदम संभल के रखो
हर हरफ वजन कर कहो
हर नाता प्रेम से बाँचो
की रिश्तो में आंच नही है ….

पल भर में बुझते है
सदियों में फ़ना होते है

रिश्ते बड़े नाज़ुक होते हैं …..

***********************

Advertisements

About Gayatri

A storyteller. Poetry, fiction, Travel tales, CSR, Parenting, Images. Writing the bestseller called Life. Communication strategist. Freelance writer. Candid photographer @ImaGeees. I travel, thus I write. I write, therefore I am. Please mail at imageees@gmail.com for writing/photography assignments.
यह प्रविष्टि कविता में पोस्ट और , , , टैग की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

11 Responses to यू टर्न

  1. 'sammu' कहते हैं:

    kya baat hai ……………..”life me koyee u turn naheen !

    Like

  2. गायत्री कहते हैं:

    @अनुराग जी : मुझे याद है आपकी पोस्ट …इस कविता के शुरुवात में जो त्रिवेणी है वो मैंने दो साल पहले १७ मार्च २००७ को अपने त्रिवेणी ब्लॉग पर और गुलज़ार कम्युनिटी ,ऑरकुट पर पोस्ट की थी …आपको याद होगा:)….

    Like

  3. डॉ .अनुराग कहते हैं:

    चटक जाए रिश्ता कोई
    फिर से जुड़ सकता है
    झिर्रिया फिर भी दिखती है
    गांठो में साख नही है ……

    हर कदम संभल के रखो
    हर हरफ वजन कर कहो
    हर नाता प्रेम से बाँचो
    की रिश्तो में आंच नही है ….

    बहुत खूब….वैसे यू टर्न पर एक साल पहले मैंने भी एक पोस्ट लिखी थी……

    Like

  4. raj कहते हैं:

    sach me rishte bade najuk hote hai….

    Like

  5. mehek कहते हैं:

    waah zindagi ka U turn sach bahut achhe se bayan hua hai,dil mein sambhale rakah hai.

    Like

  6. कुश कहते हैं:

    ज़िन्दगी की स्कूल है ये रचना.. क्या कुछ नहीं कहती..

    लाइफ में कोई यू- टर्न नही है …..

    क्या बात कही है..

    Like

  7. गायत्री कहते हैं:

    कविता पर साधुवाद देने के लिए आप सब का शुक्रिया.

    Like

  8. Nirmla Kapila कहते हैं:

    vah lajvab hai apki kalam bdhai

    Like

  9. आशीष कुमार 'अंशु' कहते हैं:

    सुन्दर कविता के लिए आभार …

    Like

  10. अनिल कान्त : कहते हैं:

    क्या बात है ….बेहद खूबसूरत भाव लिए हुई …सच्ची बात कही आपने

    Like

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s