तन्हा – तनहा

शादी में “Titan” का जोड़ा मिला था
रिश्ते की छाप पड़ गयी है शीशो पर

सिर्फ सुइया मिलती है अब एक वक़्त पर
*************************************
तुम सोचती थी तो मैं मुस्कुराता था
मैं देख लूँ तो लज्जा जाती थी तुम

लकीरे सिमट गई है अब चेहरों पे
***********************************
एक तेरे और एक मेरे हाथ का छापा
घर के चौखट पे दोनों ने लगाया था

दरार पड़ गई है दरवाज़े में वही

***************************

Advertisements

लेखक: Gayatri

A dreamer, a wanderer, traveller & explorer, a nomad at heart. Found refuge in poetry and storytelling. Writing the bestseller called Life.Sometimes shares travel tales. I travel thus I write. I write therefore I am.

6 विचार “तन्हा – तनहा” पर

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s