कुछ त्रिवेनियाँ …….

धीमी सी हैं साँसें मेरी
बहुत तेज़ पर रफ़्तार तेरी

ए मौत तू जीतेगी जंग आज……
************************************
ख़रीद-ओ-फ़रोख़्त का बाज़ार है गरम साहिब
हुस्न,इश्क़ और जज़्बात बहुत बिकते हैं यहाँ

वफ़ा और क़ुर्बानी की क़ीमत पर है बहुत कम….
*************************************
जोड़ के रक्खा था जिसने सबको
तागा वो आज पर चटक हीगया

टूटे टुकड़े ज़ख़्म छोड़ गये गहरे……
*************************************
जादूगर ज़ो छू मंतर बोलेगा
दिखते को ग़ायब कर देगा

नफ़रत करे फ़ना तो शफा मानू ……..
**************************************
मा के पल्लू में छुपा करती थी जो कल् तक
आज शर्मा के अपने आँचल में सिमटी बैठी है

पराया धन है ज़ो ले जाएँगे डोली में कहार…….
**************************************

Advertisements

लेखक: Gayatri

A dreamer, a wanderer, traveller & explorer, a nomad at heart. Found refuge in poetry and storytelling. Writing the bestseller called Life.Sometimes shares travel tales. I travel thus I write. I write therefore I am.

5 विचार “कुछ त्रिवेनियाँ …….” पर

  1. त्रिवेणियां अच्छी लगी । विशेष कर :
    —–
    जादूगर ज़ो छू मंतर बोलेगा
    दिखते को ग़ायब कर देगा

    नफ़रत करे फ़ना तो शफा मानू ……..
    —–
    ईकविता में अपनी कविताए भेजेंगे तो अच्छा लगेगा।
    http://launch.groups.yahoo.com/group/ekavita/

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s